ये कैसे माता-पिता:पुणे में 2 साल 22 कुत्तों के बीच कै’द रहा 11 साल का मासूम, माता-पिता गि’रफ्तार

पुणे के कोंढवा इलाके से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। वहां मां-बाप ने 11 साल के बेटे को 22 कुत्तों के साथ पिछले 2 साल से कैद कर रखा था। हालांकि, माता-पिता अकसर उससे मिलने आया करते थे। पड़ोसियों की शिकायत पर पुलिस ने फ्लैट पर दबिश दी और बच्चे को बेजुबानों के साथ मुक्त करवाया। बुधवार देर रात इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपी माता-पिता को गिरफ्तार कर लिया है।

कमरे में से बच्चा कुछ इस हाल में बरामद मिला।

पुणे पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक सरदार पाटिल ने बताया कि बच्चे को घर में गलत ढंग से कैद करने के लिए हमने संजय लोधरिया और शीतल लोधरिया को अरेस्ट किया है। दोनों कोंढवा की कृष्णाई बिल्डिंग में रहते हैं। इन्होंने अपने घर में 22 कुत्तों को रखा हुआ था। इनमें से ज्यादातर सड़क से उठाए गए थे। पाटिल ने बताया कि आरोपी दंपती खाना देने के लिए घर में आते थे और फिर कुछ देर वहां रहने के बाद वापस चले जाते थे।

ऐसे हुआ बच्चे के घर में कैद होने का खुलासा
पाटिल ने बताया कि कृष्णाई बिल्डिंग के रहने वाले कुछ लोगों ने घर में कैद बच्चे को खिड़की पर खड़े होकर अजीब हरकत करते हुए देखा, इसके बाद चाइल्ड लाइन की अनुराधा सहस्रबुद्धे को फोन करके इसकी जानकारी दी। यह बच्चा आमतौर पर बालकनी या खिड़की पर बैठा रहता था। घर में से दिन भर कुत्तों के भौंकने की आवाज आती थी। पिछले एक सप्ताह से घर से दुर्गन्ध आ रही थी, जिसके बाद पड़ोसियों ने परेशान होकर शिकायत की।

एक बेडरुम वाले घर में 22 कुत्तों के संग था बच्चा
शिकायत के बाद पुलिस हरकत में आई और चाइल्ड लाइन की मदद से कृष्णाई बिल्डिंग के फ्लैट में छापा मारकर बच्चे को निकाला। बाद में उसे चाइल्ड वेलफेयर सेंटर के जरिए बाल सुधार गृह में भेज दिया है। वहीं माता और पिता पर जुवेनाइल जस्टिस एक्ट धारा 23 और 28 के तहत मामला दर्ज किया गया है। इस मामले का सबसे दर्दनाक पहलू यह है कि बच्चे को एक बेडरुम वाले घर में 22 कुत्तों के साथ रहने को मजबूर होना पड़ा।

कुत्तों जैसी हरकतें करने लगा था बच्चा
जांच में सामने आया है कि आरोपी दंपती को कुत्ते पालने का शौक था। वे घर में अकसर कुत्ते लाते थे और उन्हीं के साथ रहने से बच्चे में भी वैसे ही लक्षण आ गए। पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि बच्चा खिड़की में बैठकर कुत्ते जैसी हरकतें करता था। कोरोना के कारण स्कूल दो साल बंद थे। जब स्कूल शुरू हुआ तो बच्चे ने स्कूल में दूसरे बच्चों को कुत्ते की तरह काटा भी। पुलिस इन दावों की पुष्टि के लिए गुरुवार को स्कूल जाकर मामले की जांच करेगी।

बहुत ही बुरे हाल में मिला बच्चा: चाइल्ड लाइन
इस मामले में चाइल्ड लाइन की कोआर्डिनेटर अपर्णा मोदक ने कहा कि घर से जब बच्चे को बरामद किया गया तो घर के हालात बेहद खराब थे। पूरे घर में गंदगी थी। कुत्ते घर में बेड के ऊपर और नीचे सोते थे। ये सब आवारा कुत्ते हैं।