श’र्मनाक: ट्रेन के टॉयलेट में कांस्टेबल ने किया तिहाड़ की महिला कै’दी से ब’लात्कार, देखें…

दिल्ली की तिहाड़ जे’ल में बं’द एक महिला कै’दी के साथ पश्चिम बंगाल ले जाते समय दिल्ली पुलिस के एक सिपाही द्वारा ट्रेन के टॉयलेट में ब’लात्कार करने का मा’मला सामने आया है। जानकारी के अनुसार, इस महीने की शुरुआत में एक के’स की सु’नवाई के लिए पुलिस हि’रासत में पश्चिम बंगाल ले जाई जा रही एक महिला कैदी के साथ सुरक्षा में तै’नात दिल्ली पुलिस के एक सिपाही ने चलती ट्रेन के टॉयलेट में ब’लात्कार किया था।

इस संबंध में सोमवार को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन थाने में शि’कायत द’र्ज कराई गई है।क’थित ब’लात्कार की यह घटना 3 अगस्त को नंदन कानन एक्सप्रेस के एक स्लीपर कोच में हुई थी, जब महिला कै’दी मुर्शिदाबाद में अदालत की सुनवाई में हिस्सा लेने के बाद दिल्ली लौट रही थी। घ’टना के अगले दिन, 42 वर्षीय महिला ने तिहाड़ जे’ल के डॉक्टर को घ’टना के बारे में बताया था।

आ’रोपी कांस्टेबल दिल्ली सशस्त्र पुलिस (डीएपी) का सदस्य है, जो कि दिल्ली पुलिस की ही एक विंग है जो कैदि’यों को अदा’लत की सु’नवाई के लिए एस्कॉर्ट प्रदान करती है। एक पुरुष और दो महिला कांस्टेबल पी’ड़ित महिला कै’दी को अदा’लत में पेशी के लिए पश्चिम बंगाल लेकर गए थे।

तिहाड़ जे’ल के प्रवक्ता ने बताया कि जैसे ही महिला ने जेल के डॉक्टर को घ’टना के बारे में बताया, उसे ब’लात्कार की पुष्टि करने वाली मेडिकल जां’च के लिए पश्चिमी दिल्ली के एक सरकारी अ’स्पताल में भेजा गया। हालांकि, महिला ने पुलिस को दिए अपने बयान में बताया कि उसे दो महिला पुलिसकर्मियों द्वारा ट्रेन के टॉयलेट में ले जाया गया था,

लेकिन तभी पुरुष कांस्टेबल, जो उस एस्कॉर्ट टीम का प्रभारी था, वहां आया और उसने उन दोनों को अपनी सीटों पर वापस जाने के लिए कहा और खुद टॉयलेट के बाहर रहकर सुरक्षा करने की बात कही। महिला ने पुलिस कांस्टेबल पर आरोप लगाते हुए कहा कि इसके बाद उसने उसके साथ बलात्कार किया।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि पुलिसकर्मी के खि’लाफ भारतीय दं’ड संहिता की धा’रा 376 और 506 के तहत ब’लात्कार और आ’पराधिक धम’की का मा’मला द’र्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि हमने जां’च शुरू कर दी है।

Input: Hindustan