अदभुत घ’टना: अधेड़ को डंसते ही म’र गया ज’हरीला सांप, विश्वास नहीं हो रहा, लेकिन ये सच है…देखें…

अगर हम कहें कि जहरीले सांप के का’टने से आदमी तो बच गया और सांप की ही मौ’त हो गई, तो आप इस बात पर एकबारगी भरोसा नहीं होगा कि किसी को का’टने के बाद जह’रीला सांप खुद म’र जाए। हालांकि ऐसी घ’टना कम ही देखने को मिलती है। लेकिन ऐसी एक घ’टना घटी है सुपौल जिले के प्रतापगढ़ प्रखंड के सुखानगर गांव में, जहां गांव के एक अधेड़ व्यक्ति सुबोध प्रसाद सिंह (55) को सांप ने डंसा और खुद ही म’र गया।हुआ यूं कि, शुक्रवार की सुबह छह बजे सुबोध फूल तो’डऩे बगीचे में गए थे।

वहां वो फूल तो’ड़ रहे थे कि पास की झाड़ी में स’रसराहट हुई और अचनाक एक बड़ा-सा गेहुंअन सांप निकल आया। फूल तो’ड़ने की डाली छोड़ जैसे ही वो कुछ समझ पाते, सांप ने उन्हें का’ट लिया।वे सांप के का’टने से घबराए नहीं, उन्होंने अपना जनेऊ उतारा और सांप के का’टे गए स्थान के ऊपर जोर से बांधा। घर के लोग जगे तो उन्होंने बगीचे में उन्हें धीरे-धीरे चलते हुए देखा, पूछने पर जैसे ही उन्होंने घट’ना के बारे में बताया, परिवार के लोग तुरंत उन्हें लेकर अस्पताल पहुंच गए, जहां उनका इ’लाज कराया गया।

लोगों ने बगीचे में जाकर देखा तो वहां ईंट के नीचे गेहुंअन सांप, जिसने सुबोध को का’टा था वो म’रा पड़ा था।प्रतापगंज प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी डॉक्टर हरेन्द्र प्रसाद साहु ने बताया कि सांप के केंचुल निकलने के दौरान वह अधिक पीड़ा से गुजरता है और परे’शान होता है।

एेसे में सांप के केचुवाए रहने के कारण अगर वह डं’सता है तो डंसने के दौ’रान अधिकांश जहर सांप के मुंह में ही गि’र जाता है। जिससे उसकी मौ’त हो जाती है। केंचुए से निकलने के बाद फिर वह गेहुंवन सांप काफी आ’क्रामक तेवर में होता है।