#MUZAFFARPUR रेंज आईजी ने तीन जिलों के एसपी संग कई मुद्दों पर की समी’क्षा बैठक

MUZAFFARPUR (ARUN KUMAR) : बुधवार को तिरहुत रेंज के पुलिस महानिरीक्षक गणेश कुमार ने रेंज के अधीन जिलों के पुलिस अधीक्षकों के साथ सम्बंधित जिलों के पुलिसकर्मियों को एसीपी का लाभ, रि’मांड होम के बाल बं’दियों का मेडि’कल बोर्ड गठित कर उम्र सत्या’पन, घ’टित आप’राधिक घट’नाओं, उन कां’डों में हुए अनुसं’धान, उपलब्धि आदि विषयों की गहन समीक्षा करते हुए अप’राध नियंत्रण के लिए पुलिस अफसरों को कई महत्वपूर्ण दिशा-नि’र्देश भी दिए.

 

पुलिस महानिरीक्षक कार्यालय में चार घंटे चली पुलिस अफसरों के साथ आईजी की मै’राथन बैठक में अप’राध नियंत्र’ण से संबंधित आईजी द्वय ने दिशा-निर्देश दिए. समीक्षा बैठक के दौरान जिले के वरीय पुलिस अधीक्षक जयंतकांत के साथ ही शिवहर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार और सीतामढ़ी पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार शामिल थे.

समीक्षा बैठक के दौरान रेंज आईजी ने पर्य’वेक्षण गृह (रि’मांड होम) में रहने वाले बं’दियों में अधिक उम्र के बं’दी शामिल होते हैं. उम्र सम्बंधी फ’र्जी दस्तावेजों के जरिये नाबा’लिग बता कर रि’मांड होम में रहते हुए अलग-अलग जिलों में आप’राधिक वा’रदा’तों को अंजा’म देते हैं.
हाल के दिनों में कई ब’ड़ी लू’ट के मामलों में रि’मांड होम में रहने वाले बाल कै’दियों की संलि’प्तता प्रकाश में आई है जो छु’ट्टी लेकर आप’राधिक वा’रदातों को अंजा’म देते हैं.

इस सम्बन्ध में रेंज आईजी ने निदेशित किया कि इस पर अंकु’श लगाने के लिए सभी बाल बं’दियों के उम्र समेत उनकी गतिवि’धियों का स’त्यापन करते हुए 18 वर्ष से अधिक के बंदियों को जे’ल स्थानां’तरित किया जाये. किसी भी आप’राधिक मामले में नाबा’लिग की गिर’फ़्तारी होती है तो मेडिकल बोर्ड गठित कर आरो’पित के उम्र सत्यापन उपरांत ही रि’मांड होम या जे’ल भेजने का नि’र्णय लिया जाये और यह त’थ्य जुबे’नाइल ज’स्टिस बोर्ड के समक्ष भी रखी जाये.

बैठक के दौरान पुलिस महानिरीक्षक गणेश कुमार ने पुलिस कर्मियों को एसीपी का लाभ दिलाने के लिए वि’स्तृत समीक्षा की. बैठक में कई पुलिस कर्मियों को एसीपी का लाभ देने पर चर्चा हुई. आईजी ने बताया की पुलिस अधिकारियों को एसीपी को लाभ देने की अनु’शंसा के लिए सूची पुलिस मुख्यालय भेजी जायेगी. मालूम हो कि 10 वर्ष, 20 वर्ष व 30 वर्ष की नौकरी पूरी करने के बाद सरकारी कर्मियों को एसीपी का लाभ देने का प्राव’धान है. जिन अधिकारियों को प्रमोशन नहीं मिला उन अधिकारियों को चि’न्हित करते हुए समी’क्षोपरान्त एसीपी का लाभ दिया जाएगा.

बैठक में मुजफ्फरपुर के वरीय पुलिस अधीक्षक जयंतकांत के साथ ही शिवहर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार और सीतामढ़ी पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार के साथ आपरा’धिक घट’नाओं खासकर गं’भीर मा’मलों के एक-एक प्रक’रण की जानकारी ली. इसके साथ ही मामलों में अब तक हुई का’र्रवाई और उप’लब्धियों पर भी गहन चर्चा की. उन्होंने अप’राध और अप’राधी पर लगा’म लगाने और अप’राध नियं’त्रण में सक्रिय रहने की बात कही. बैठक के दौरान अप’राध रोकने में पुलिस कहां पर ना’काम सा’बित हो रही है, इस संबंध में भी बैठक के दौरान चर्चा की गई. आईजी  श्री कुमार ने उपस्थित पुलिस पदाधिकारियों को आप’राधिक घट’नाओं पर शि’कंजा कसने के लिए रणनी’ति के तहत विशेष कार्य योजना बनाने के भी दिशा निर्देश दिए.

आईजी श्री कुमार ने सभी पुलिस अधीक्षकों को अपने अपने जिलों के क्षेत्रों की ग’श्ती के औ’चक निरी’क्षण के साथ ही लं’बित सभी मामलों के जल्द से जल्द निपटारे के आदेश दिए. क्षेत्राधिकारियों को पर्य’वेक्षण में एसआर केस को जल्द निस्ता’रित कराने के आदेश दिए. आईजी ने श’राब बरामदगी मामले में चि’न्हित कारो’बारियों के खिलाफ कड़ी का’र्रवाई के साथ ही जिले में श’राब त’स्करी की संभावित रास्तों व इंट्री पॉइंट पर भी चौक’सी बरतने की सलाह दी.

बैठक के दौरान आईजी श्री कुमार ने कहा की गं’भीर आप’राधिक मामले यथा ह’त्या, डकै’ती, लू’ट या सम्प’त्तिमूल’क कां’डों और शराब माफि’याओं के विरुद्ध प्रति’वेदित मामलों में क’ठोर क़ानूनी का’र्रवाई के साथ एक माह के अंदर चार्जशी’ट दाखिल कर आरो’पियों के विरुद्ध स्पी’डी ट्रा’यल की का’र्रवाई सुनि’श्चित कराई जाये. अप’राधों की विवे’चना सही ढंग से ससमय की जाए व न्यायालय में प्रकरण के विचा’रण के दौरान नियमित मॉनि’टरिंग की जाए. उन्होंने उपस्थित पुलिस अधीक्षकों से कहा कि अपने-अपने जिले के तमाम चेकपो’स्टों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस बल के साथ तमाम चौक-चौराहों पर स’घन वाहन जां’च और चे’किंग अभि’यान चलाये.