#MUZAFFARPUR आये प्रवासी मजदूरों के रोज’गार हेतु मैप तैयार, स्किल के हिसाब से मिलेगी तरजी’ह

MUZAFFARPUR (ARUN KUMAR) : लॉ’क डाउन की अव’धि में बाहर से आए हुए लोगों को रो’जगार देने के लिए जिला प्रशासन द्वारा मैप तैयार किया गया है। इसके तहत सभी प्रकार की योजनाओं में प्रवासी मजदूरों को स्किल के हिसाब से तरजी’ह मिलेगी। प्रवासियों को जिला उद्योग केंद्र व श्रम विभाग के तालमेल से रोजगार उपलब्ध कराने की कवायद शुरू कर दी गई है जिसे मू’र्त रूप देने के लिए आज समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में जिलाधिकारी मुजफ्फरपुर डॉक्टर चंद्रशेखर सिंह के नेतृत्व में विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की गई।

इस दौरान जिलाधिकारी ने बाहर से आये हुए मज’दुरो को रोजगार उपलब्ध कराने के संबंध में सभीअधिकारियों से उनकी प्लानिंग भी जानी। बैठक में श्रम अधीक्षक द्वारा बताया गया कि बाहर से आए हुए 27534 लोगों का स्किल सर्वे किया गया है। इसमें कुशल श्रेणी के कामगा’रों में मुख्य रूप से कारपेंटर, द’र्जी, ड्राइवर, इलेक्ट्री’शियन, राजमि’स्त्री, पें’टर, वाहन मैके’निक, सेल्समै’न, फ्लोर टाइल्स मि’स्त्री, लोहे से कृषि यंत्र बनाने वाले कर्मका’र, दर्जी इत्यादि शामिल है। इसके अतिरिक्त अकुशल कामगारों की भी संख्या सूची में दर्ज है।

जिलाधिकारी ने विभिन्न विभागों को निर्देश दिया कि मज’दूरों को उनके स्किल के अनुरूप रोज’गार मुहैया कराई जाए। निर्दे’श दिया गया कि बाहर से आए हुए महिलाओं को स्वयं सहा’यता समूह से जोड़ें। जीविका द्वारा बताया गया कि ऐसे 2676 महिलाओं की सूची प्राप्त हुई है जिन्हें जल्द ही विभिन्न स्वयं सहायता समूह से जोड़ दिया जाएगा ताकि समूह के माध्यम से वे अपने जीवि’कोपार्जन का कार्य कर सकें। वही उद्योग विस्तार पदाधिकारी ने बताया कि श्र’म विभाग के पोर्टल पर जिले के विभिन्न संस्थाओं/ इकाइयों द्वारा लगभग 35000 वैकेंसी अपलोड की गई है।

उन्होंने कहां कि विभिन्न सरकारी विभागों को उनके डिमां’ड के अनुरूप तथा प्रवासी मज’दूरों के हु’नर को देखते हुए लगभग 12000 की सूची उपलब्ध कराई गई है। उन्होंने बताया कि उद्योग विभाग द्वारा बाहर से आए हुए लोगों को रोज’गार सृ’जन की दिशा में गंभीरता पूर्वक कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति, जनजाति/ अत्यंत पिछड़ा वर्ग उद्यमी योजना के तहत जो प्रवा’सी श्र’मिक इंटर पास है उनसे संपर्क कर आवे’दन प्राप्त किया जा रहा है ताकि उन्हें रोज’गार मुहै’या कराई जा सके। साथ ही प्रधानमंत्री रो’जगार सृ’जन कार्यक्रम के तहत आठवां पास योग्यताधारी श्र’मिकों को रोज’गार सृजन के दिशा में कार्य किया जा रहा है।

लॉ’क डाउन की स्थिति में 1 अप्रैल से अब तक कुल 18000 मज’दूरों को जॉ’ब कार्ड निर्गत किया गया है। वहीं पीएचईडी के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि लगभग 163 प्रवासी मज’दूरों को पीएचईडी के तहत चल रहे विभिन्न कार्यों में रोज’गार प्रदा’न किया गया है। इसके अतिरिक्त ख’नन विभाग में 689 मजदूरों को रोज’गार उपलब्ध कराने की दिशा में गंभीरता पूर्वक कार्य किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त भवन निर्माण विभाग ,पथ निर्माण विभाग ,ग्रामीण विकास विभाग तथा अन्य विभागों के पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया कि एक सप्ताह के अंदर रोज’गार सृजन के दिशा में उठाए गए कदम से संबंधित प्रतिवेदन उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

जिलाधिकारी ने निर्दे’श दिया कि पंचायती राज विभाग के अंतर्गत क्रियान्वित किए जा रहे हैं हर घर नल का जल /गली नली आदि योजनाओं के क्रियान्वयन में प्रवा’सी मज’दूरों की सहभागिता हर हाल में सुनि’श्चित की जाए। इस आशय का निर्देश सभी पंचायतों के मुखिया को भी प्रेषित कर दी जाए कि प्राथमिकता के आधार पर वे प्रवासी श्रमि’कों को रोज’गार मुहै’या कराएं साथ ही कितनो को काम दिया गया है म उसकी सूची भी उनसे ली जाय। बैठक में रेडीमेंट गारमेंट उद्यमी संघ के संयोजक अशोक भारती ने टेक्सटाइल एवं रेडीमेड गारमेंट्स संबंधित कलस्टर निर्माण की संभावना को लेकर अपनी बात रखी। आने वाले दिनों में इस संबंध में चेंबर ऑफ कॉमर्स के साथ मीटिंग की जा सकती है। बैठक में उप विकास आयुक्त के साथ सभी विभागों के वरीय पदाधिकारी एवं विष्णु कांत झा, नर्मदेश्वर चौधरी सदस्य रेडीमेड गारमेंट उद्यमी संघ के साथ ही जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी कमल कुमार सिंह उपस्थित थे।